Blogger में Review Snippets Error को कैसे Fix करें – How to Fix Review Snippet Markup Error in Search Console

आज के इस आर्टिकल में हम सीखेंगे Review Snippet Error के बारे में जो सभी ब्लॉगर्स के Search Console में आ रही है। Review Snippets Error कैसे Fix करें। अगर

SEO Friendly Article Kaise Likhe – 20+ Tips [Updated 2023]

SEO Friendly Article Kaise Likhe? आज हम इस आर्टिकल में आपको इसकी पूरी जानकारी दे रहे हैं। SEO फ्रेंडली आर्टिकल कैसे लिखें? और सर्च इंजन के टॉप पर आर्टिकल को कैसे रैंक कराए? 

SEO Friendly Article Kaise Likhe - 20+ Tips [Updated 2020]

अगर आप अपने ब्लॉग के सभी आर्टिकल को सर्च इंजन के टॉप पर रैंक कराना चाहते हैं तो इसके लिए आपको SEO Friendly Article लिखने होंगे।

SEO Friendly Article लिखने का मुख्य उद्देश्य, ब्लॉग आर्टिकल को सर्च इंजन के अनुसार optimize करना है। जिससे सर्च इंजन आपके कंटेंट को आसानी से समझ सकें और रैंक कर सकें।

SEO Friendly Article कैसे लिखें?

SEO फ्रेंडली आर्टिकल वो आर्टिकल होता हैं, जिसे हम सर्च इंजन के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ करते हैं ताकि हमारा आर्टिकल सर्च इंजन के टॉप पर रैंक कर सकें।

Starting के समय में सभी के लिए आर्टिकल लिखना थोड़ा मुश्किल होता है, और ऐसे में SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिखना तो और भी ज्यादा चुनौती भरा काम हैं।

लेकिन इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिखना सीख जायेंगे। क्यूंकि यहां पर हम इसके बारे में 20+ Tips आपके साथ शेयर कर रहें हैं। 

इन सभी टिप्स को फॉलो करके आप आसानी से SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिख सकते हैं। तो चलिए जानते हैं 20+ Tips SEO Friendly Article कैसे लिखें

1) Keyword Research

जब भी आप आर्टिकल लिखने की सोचे, तो उससे पहले टॉपिक और कीवर्ड्स का proper और अच्छे तरीके से research करें। आर्टिकल लिखने से पहले आपको टॉपिक पता करना होगा कि आप किस टॉपिक पर आर्टिकल लिखना चाहते हैं। 

टॉपिक पता करने के बाद आपको उस टॉपिक से रिलेटेड कीवर्ड रिसर्च करना हैं। अगर आप बिना keyword research के आर्टिकल लिखेंगे तो उस आर्टिकल को आप ऑप्टिमाइज़ नहीं कर सकते।

अगर आप अपने आर्टिकल को सर्च इंजन के टॉप पर रैंक कराना चाहते हैं तो आपको आर्टिकल लिखने से पहले keyword research करना होगा।

SEO Friendly Article Kaise Likhe - 20+ Tips [Updated 2020]

आप अपने आर्टिकल में keywords का जितना बेहतर तरीके से इस्तेमाल करेंगे, उतना आपके आर्टिकल के कंटेंट की क्वालिटी बेहतर होगी। पर आपका आर्टिकल उतना ही ज्यादा ऑप्टिमाइज हो पाएगा।

ज्यादातर नए ब्लॉगर कीवर्ड रिसर्च को पूरी तरह से नजरअंदाज करते हैं, और इसको जरूरी नहीं समझते जो कि उनकी सबसे बड़ी गलती है। आप बिना कीवर्ड के किसी भी आर्टिकल को रैंक नहीं करा सकते। इसलिए कीवर्ड रिसर्च करना बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है।

2) Keyword in Title

अपने आर्टिकल का main keyword टाइटल में जरूर रखें। और कोशिश करें कि टाइटल के शुरू में ही कीवर्ड का इस्तेमाल करें। इससे आप का टाइटल सर्च इंजन के लिए ऑप्टिमाइज हो जाएगा।

टाइटल में power words का इस्तेमाल करें जैसे – top, best, instant, fast, quick, powerful, amazing, ultimate, extreme, etc. इसके अलावा नंबर का भी इस्तेमाल करें जैसे – top 10, 11+, 20+, 51+, 101+ best, etc. 

Title की length 60 – 70 characters से ज्यादा मत रखें। हमेशा टाइटल इस तरह से लिखे कि यूजर देखते ही अट्रैक्ट हो जाए और वह क्लिक करने पर मजबूर हो जाए।

SEO Friendly Article Kaise Likhe - 20+ Tips, seo friendly title

SEO फ्रेंडली आर्टिकल लिखने के लिए आपको अपने आर्टिकल के टाइटल पर कीवर्ड का इस्तेमाल करना होगा। हमेशा long tail keyword यूज करें और short tail keyword का इस्तेमाल करने से बचें।

3) Use Keyword in First & Last Paragraph

अगर आप चाहते हैं कि आपका आर्टिकल सर्च इंजन के टॉप पर रैंक करें तो इसके लिए आपको टाइटल के साथ साथ अपने कंटेंट के पहली और आखिरी पैराग्राफ में भी कीवर्ड ऐड करना होगा।

लेकिन इस बात का भी आपको खास ध्यान रखना है कि आप अपने कीवर्ड को natural तरीके से लिखें। केवट को जानबूझकर अपने कंटेंट में बार-बार ना लिखें। 

ये गूगल के गाइडलाइंस के खिलाफ है। इससे आपके ब्लॉग का सर्च इंजन के नजर में negative impact पढ़ता है। इसलिए जानबूझकर कीवर्ड का इस्तेमाल बार बार मत करें।

4) Keyword in Heading & Subheadings (H2, H3, H4)

आपको अपने आर्टिकल में टाइटल के अलावा heading और subheadings का भी प्रॉपर तरीके से इस्तेमाल करना हैं। आपको बता दें कि ब्लाक के सभी आर्टिकल में टाइटल के साथ-साथ heading और subheadings पर भी ध्यान देना जरूरी होता है।

जैसा की आपको पता होगा कि आर्टिकल का title (h1), heading (h2) और subheadings (h3, h4) tag में होता है। जिस तरह से टाइटल का seo friendly होना जरूरी है ठीक उसी तरह heading और subheadings का भी seo friendly होना बहुत जरूरी है।

इसलिए आपको अपने आर्टिकल के title के साथ साथ heading और subheadings में भी keyword का इस्तेमाल करना होगा। 

SEO Friendly Article Kaise Likhe - 20+ Tips [Updated 2020]

ज्यादातर रीडर्स आर्टिकल में हेडिंग और सब-हेडिंग ही पढ़ते हैं और बहुत कम रीडर्स होते हैं जो बाकी कंटेंट को पढ़ते हैं। ऐसे में अगर आप चाहते हैं, कि रीडर्स आपके पूरे कंटेंट को पढ़ें तो आपको seo friendly के साथ साथ catchy heading और subheading लिखना होगा।

इसलिए इसमें आपको कीवर्ड्स का इस्तेमाल करना होगा। और कोशिश करें कि हेडिंग के शुरुआत में ही कीवर्ड रखें। इससे आर्टिकल का seo और भी ज्यादा बेहतर होता है।

5) Keyword in Permalink

आप अपने आर्टिकल का लिंक बनाएंगे यानी कि permalink बनाएंगे तो उसमें भी आपको अपने टॉपिक का main keyword add करना हैं। 

आपको अपने आर्टिकल के permalink को भी सर्च इंजन के अनुसार ऑप्टिमाइज करना होगा। अगर आप permalink में कुछ भी लिख देंगे तो सर्च इंजन में आपका आर्टिकल रैंक नहीं कर पाएगा।

इसलिए आप जब भी आर्टिकल लिखें तो उसके permalink में भी keyword जरूर लिखें। और हमेशा permalink short रखें। 

SEO Friendly Article Kaise Likhe - 20+ Tips [Updated 2020]

आप अपने आर्टिकल के permalink मैं लिखे गए शब्दों को अलग करने के लिए space का इस्तेमाल नहीं कर सकते, इसलिए यहां पर आपको high pin (-) का उपयोग करना होगा शब्दों को अलग करने के लिए। 

6) Keyword in Meta Description

Meta Description आपके आर्टिकल के कंटेंट का एक brief overview होता है जो विजिटर्स को आपके आर्टिकल पर क्लिक करने के लिए मजबूर करता है।

अगर आप चाहते हैं कि आपके आर्टिकल पर ज्यादा व्यूज आए, तो इसके लिए आपको अपने टाइटल के साथ साथ मेटा डिस्क्रिप्शन पर भी ज्यादा ध्यान देना होगा और इसे ऑप्टिमाइज करना होगा।

मेटा डिस्क्रिप्शन को बेहतर तरीके से ऑप्टिमाइज करने के लिए आपको अपने आर्टिकल के टाइटल का मेन कीवर्ड और फोकस कीवर्ड का उपयोग करना होगा।

अगर आप मेटा डिस्क्रिप्शन में टारगेटेड कीवर्ड और रिलेटेड कीवर्ड इस्तेमाल करते हैं तो आपका आर्टिकल सर्च इंजन के टॉप पर रहे हो सकता है। और सर्च रिजल्ट में वो कीवर्ड bold हो जाते हैं, जो विजिटर्स का ध्यान आकर्षित करते हैं।

7) Use LSI Keywords

आर्टिकल लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च जरूर करें। और एक कीवर्ड को चुनकर उस कीवर्ड के रिलेटेड कीवर्ड्स को ढूंढे, और अपने आर्टिकल में इस्तेमाल करें। इसे LSI Keyword कहते हैं। 

यानी कि टॉपिक से related keyword या similar keyword को LSI Keyword कहते हैं। शायद आपको पता हो, कि आप जो भी आर्टिकल लिखते हैं वह केवल आपके टारगेटेड कीवर्ड पर ही रैंक नहीं होता बल्कि उससे रिलेटेड दूसरे कीवर्ड पर भी रैंक करता है।

SEO Friendly Article Kaise Likhe,

इसलिए आप जब भी आर्टिकल लिखे तो उसमें केवल टारगेटेड कीवर्ड ही नहीं बल्कि साथ में उससे रिलेटेड कीवर्ड यानी की LSI Keyword भी जरूर यूज़ करें।

LSI Keyword find करने के लिए इंटरनेट पर आपको बहुत सारे टूल मिल जाएंगे। मैं आपके साथ कुछ LSI Keyword Finder Tool शेयर करे रहा हूं।

  • Google Keyword Planner
  • Ubersuggest
  • Ahrefs Keyword Explorer
  • SEMrush
  • LSI Graph
  • Keyword Everywhere, etc.

8) Use Images Alt Tag

आर्टिकल में इस्तेमाल होने वाले इमेजेस पर “Attribution Tag” जरूर लगाएं। Alt Tag का यूज करने से आपका आर्टिकल गूगल सर्च के साथ साथ गूगल इमेजेस पर भी रैंक करेगी।

आप अपने सभी आर्टिकल में कम से कम एक क्वालिटी इमेज जरूर ऐड करें। और उस इमेज को सर्च इंजन के अनुसार fully optimize भी जरूर करें। Image Optimization के लिए आप इन steps को फॉलो करें :

  • Image अपलोड करने से पहले, उसे rename जरूर करें।
  • इमेज compress करने के बाद ही अपलोड करें।
  • इमेज की साइज under 50kb रखने की कोशिश करें।
  • High quality images का इस्तेमाल करें। 
  • Image Compress करें, पर क्वालिटी पर ही focus होना चाहिए।
  • हमेशा Alt Tag का use करें।
  • Image rename करते वक़्त, उसमे space की जगह high pin (-) का इस्तेमाल करें। जैसे – seo-friendly-article-kaise-likhen.jpg

9) Internal Linking of Related Articles

अगर आप एक ब्लॉगर है तो आपने bounce rate का नाम जरूर सुना होगा। अगर आपके ब्लॉग कि bounce rate ज्यादा हैं, तो ये आपके ब्लॉग की रैंकिंग को बिगाड़ सकता है।

Readers आपके ब्लॉग पर जितनी ज्यादा देर तक रहेगा, आपके ब्लॉग की bounce rate उतना ही कम होगा। इसलिए आपको अपने आर्टिकल्स में पिछले आर्टिकल के लिंक add करना होगा।

लेकिन अगर आप reader को ज्यादा समय तक अपने ब्लॉग पर रोके रखना चाहते हैं, तो अपने आर्टिकल से रिलेटेड पिछले आर्टिकल के लिंक ऐड करें।

ऐसा करने से आपके ब्लॉग का बाउंस रेट कम होता है और विजिटर आपके ब्लॉग पर लंबे समय तक आर्टिकल पड़ते हैं।

ऐसा करने से सर्च इंजन में आपके ब्लॉग की value increase होती है। इसलिए एक जैसे टॉपिक से रिलेटेड आर्टिकल्स को एक दूसरे के साथ जोड़े और अपने आर्टिकल को seo friendly बनाए।

10) External Linking of Related High Quality Sites

बहुत से ब्लॉगर यह सोचते हैं कि, हम दूसरे की साइट का लिंक अपने ब्लॉग पर क्यों दें? पर उन्हें यह नहीं पता कि ऐसा करने से उनके ब्लॉग को बहुत ज्यादा फायदा होता है।

अगर आप top authority high quality sites का लिंक अपने ब्लॉग आर्टिकल के देते हैं, तो सर्च इंजन आपके साइट को ऊपर लेकर आता है।

क्यूंकि ऐसा करना इस बात को दर्शाता हैं कि आपने अपने आर्टिकल में विभिन्न सोर्स की मदद से एक शानदार जानकारी प्रदान की है। और ऐसा करने से आपके आर्टिकल की वैल्यू सर्च इंजन की नजरों में बढ़ जाती है।

लेकिन आप सिर्फ उन्हीं वेबसाइट के लिंक को अपने ब्लॉग आर्टिकल में ऐड करें जो सर्च इंजन में पॉपुलर हो और साथ ही जिनका DA – PA high हो। जैसे – विकिपीडिया, आदि।

11) Article Write in Short Paragraphs

आप अपने आर्टिकल को छोटे छोटे पैराग्राफ में लिखें। ज्यादा लंबे लंबे पैराग्राफ लिखने से बचें। क्योंकि ज्यादा लंबे पैराग्राफ होने से reader bor होने लगता है और साइट से बाहर निकाल जाता हैं।

आप बताइए, अगर आपको एक पेज दिया जाए, जिसमें एक ही पैराग्राफ से पूरा पन्ना भरा हो, तो क्या आपको पढ़ने का मन करेगा। बिल्कुल नहीं करेगा।

वहीं अगर, उसी पन्ने पर लिखा हुआ कंटेंट 10 छोटे छोटे पैराग्राफ में लिखा हो, तो आप आसानी से पढ़ लेंगे। और आपका मन भी लगेगा पढ़ने में।

इसलिए हमेशा आर्टिकल छोटे-छोटे पैराग्राफ में लिखें। एक पैराग्राफ को केवल 3 लाइन में समाप्त कर दें। और अगर 3 से ज्यादा हो रही हो, तो ज्यादा से ज्यादा 4 लाइन का पैराग्राफ रखें। इससे ज्यादा हरगिज़ मत करें।

12) Don’t Do Keyword Stuffing

Keyword Stuffing का मतलब होता है, किसी कीवर्ड को जानबूझ कर अपने आर्टिकल में बार बार लिखना। अगर आप ऐसा करते हैं तो समझ लीजिए कि आपका आर्टिकल सर्च इंजन के फर्स्ट पेज पर कभी रैंक नहीं कर पाएगी।

अगर आप सोचते हैं कि जरूरत से ज्यादा कीवर्ड लिखने से आपके ब्लॉग की सर्च रैंकिंग को boost मिलेगी, तो आप बिल्कुल ग़लत हैं। इससे आपकी कंटेंट की रैंकिंग और भी कम हो जाती है।

Keyword Stuffing करने से आपका आर्टिकल spam, unnatural और useless बन जाता है। आप अपने आर्टिकल में keyword की density 0.5% से 1.5% रखें।

Keyword Stuffing के बारे में ज्यादा जानने के लिए google webmaster की guidlines को आप पढ़ सकते हैं। 

13) Write High Quality Content

अगर आपके कंटेंट में जान है, तो आज नहीं तो कल आपका कंटेंट सर्च इंजन के टॉप पर रैंक जरूर करेगा, और उस कंटेंट से आपको ट्रैफिक भी मिलेगी।

“Content is the King” ये आप जरूर सुने होंगे। ब्लॉगिंग में कंटेंट ही सब कुछ होता है। अगर आप ब्लॉगिंग में सक्सेस पाना चाहते हो तो आपको high quality content लिखना आना चाहिए।

कंटेंट हमेशा यूजर को ध्यान में रखकर लिखना चाहिए। कंटेंट इस तरह से लिखे कि यूजर उसे पढ़ने के बाद यह सोचे कि जो मुझे चाहिए था वह मिल गया।

High Quality Content कैसे लिखें? इसपर हमने पहले ही एक detail article लिखा हुआ हैं, जिसमें हमने step by step detail में समझाया हैं। आप इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।

100% High Quality Content Kaise Likhe – Writing Tips 2023

आज हम बात करने वाले हैं High Quality Content के बारे में, हाई Quality Content क्या हैं? ब्लॉग में High Quality कंटेंट कैसे लिखें?
किसी भी ब्लॉग की traffic, ranking और SEO के लिए quality content post का होना बहुत ज्यादा जरूरी है। इसलिए हर ब्लॉगर को हाई quality content के बारे में पता होना चाहिए।
100% High Quality Content Kaise Likhe - Writing Tips 2020
अगर आप अपने ब्लॉग के आर्टिकल्स की सर्च इंजन में top ranking चाहते हैं, तो आपको quality content deliver करना होगा। एक अच्छा ब्लॉगर बनने के लिए आपको क्वालिटी कंटेंट लिखना आना चाहिए।

किसी भी सर्च इंजन में top ranking के लिए high quality content हमेशा से ही नंबर 1 factor रहा है और आगे भी बना रहेगा।

क्वालिटी कंटेंट के बिना ब्लॉग पर कभी भी traffic increase नहीं हो सकती। और अगर ब्लॉग में केवल 10 क्वालिटी कंटेंट आर्टिकल्स हैं तो लाखों traffic प्राप्त कर सकते हैं। 

इसलिए आज हम इस आर्टिकल में high quality कंटेंट के बारे में सीखेंगे। तो चलिए जानते हैं valuable, informative और high quality कंटेंट कैसे लिखते हैं?

High Quality Content Kya Hai?

अगर हम आसान शब्दों में समझें तो ऐसा content जिसमें reader को उसके पूछे गए सवाल और queries का संपूर्ण सटीक जवाब मिल जाएं, quality content कहलाता है।

Quality Content वो हैं जो Readers के सवालों का सही जवाब दे सकें और उस कंटेंट को सर्च इंजन और रीडर्स दोनों अच्छी तरह समझ सकें।

किसी भी ब्लॉग पर ज्यादा traffic पाने का सबसे अच्छा source सर्च इंजन होता है। अगर ब्लॉग पर क्वालिटी कंटेंट हैं, तो search engine के result (SERP) में सबसे ऊपर रैंक होगा। 

जिससे उस पर ज्यादा traffic आएगा और लोग उस ब्लॉग के बारे में जान सकेंगे। इससे ब्लॉग कि brand value तो बढ़ती ही हैं साथ ही साथ admin की public figure भी create होने लगती हैं। 

आपको बता दें कि एक अच्छा content वहीं होता है जिसे लोग पसंद करें और अपने इच्छा से शेयर करें।

ब्लॉग article लिखते समय हमे writing और seo दोनों पर ध्यान देना होगा। Low quality content पर आप कितना भी SEO कर लें, कोई फायदा नहीं होगा। 

इसलिए आर्टिकल लिखते समय हमेशा high क्वालिटी content ही लिखें और SEO पर भी पूरा ध्यान दें।

High Quality कंटेंट लिखने के लिए बहुत सारे factors के बारे में नीचे बताया गया है, आप इन्हे follow करके एक अच्छी और हाई क्वालिटी content लिख सकते हैं।

High Quality Content Ke Fayde?

वैसे तो हाई क्वालिटी content लिखने के बहुत सारे फायदे हैं। ब्लॉग में हमेशा हाई क्वालिटी content ही लिखना चाहिए। चलिए लेते हैं कि हाई क्वालिटी content के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं :

  • Organic Traffic increase होता है। 
  • Views ज्यादा मिलते हैं।
  • सर्च इंजन के रैंकिंग में सुधार होता है।
  • हाई क्वालिटी कंटेंट आर्टिकल्स सर्च इंजन में आसानी से first page पर रैंक होने लगती हैं।
  • Audience ज्यादा Connect होते हैं। 
  • Alexa Ranking improve होता है।
  • Domain Authority (DA) और Page Authority (PA) भी improve होता है। 
  • SEO बढ़िया होती हैं। और इससे ब्लॉग को बहुत ज्यादा फायदा होता है।
  • AdSense CPC भी improve होता है।
  • ब्लॉग की brand value और goodwill बढ़ती है।

High Quality Content Kaise Likhe?

High Quality कंटेंट लिखने के लिए बहुत सारे factors को ध्यान में रखना पढ़ता हैं। एक क्वालिटी कंटेंट लिखना बहुत आसान है। लेकिन अगर आप नए ब्लॉगर हैं, तो आपको पहले कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। 

High Quality कंटेंट कैसे लिखें? ये सवाल हर नए ब्लॉगर का हैं। तो चलिए जानते हैं हाई क्वालिटी कंटेंट कैसे लिखते हैं।

1) Topic Research

जब भी हम आर्टिकल लिखने के लिए बैठते हैं, तो सबसे पहले हम ये सोचते हैं कि आर्टिकल किस टॉपिक पर लिखना हैं। 
आसान शब्दों में समझें तो आर्टिकल लिखने के लिए हमें पहले टॉपिक सेलेक्ट करना जरूरी है। 
लेकिन टॉपिक सेलेक्ट करने के बाद, हम सीधे आर्टिकल नहीं लिख सकते। अगर हम ऐसा करते हैं, तो हमारे आर्टिकल में हाई quality content नहीं हो पाएगा। 
किसी भी आर्टिकल में हाई quality content देने के लिए टॉपिक का proper research करना बहुत जरूरी है। 
यह पर रिसर्च का मतलब है, टॉपिक को सर्च इंजन में सर्च करें, और top ranked articles को पढ़कर उन्हें analyze करें। 
Top ranked articles को analyze करने के बेआद आपको उंकिवतरह आर्टिकल नहीं लिखनी हैं। बल्कि उनसे भी बेहतर और unique आर्टिकल लिखना है। 
अधिकतर नए ब्लॉगर्स यहां पर गलती करते हैं। जो आर्टिकल पहले से ranked हैं, उन्हीं के कंटेंट को अपने शब्दों में लिख देते हैं, ताकि duplicate content ना लगे। 
लेकिन अगर आप ऐसा करते हैं, तो गूगल आपके आर्टिकल को कभी रैंक नहीं करेगा। इसलिए भूल कर भी ऐसी गलती बिल्कुल ना करें।
आप top ranked articles को पढ़कर उन्हें analyze करें और वहां से आईडिया लेकर उनसे भी बेहतर content लिखने की कोशिश करें।
किसी को कभी भी कॉपी हरगिज़ ना करें। अपने आर्टिकल को unique रखें और सबसे हटकर information देने की कोशिश करें। 
रिसर्च के दौरान आप सभी top ranked articles से वो ideas ज्ञात करें, जो कोई भी अपने आर्टिकल में यूज ना किया हो। 

2) Keyword Research 

अब आपने topic की research तो कर ली हैं, अब उसके बाद आपको अपने topic की keyword research भी करना होगा। 
अगर आप बिना keyword research के आर्टिकल लिखेंगे तो उस आर्टिकल को आप optimize नहीं कर सकते। 
किसी भी आर्टिकल में हाई quality content देने और search engine में top rank होने के लिए keyword research करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है। 
Proper keyword research में आपको अपने टॉपिक के long tail keyword का यूज करना होगा और साथ ही LSI keywords का भी इस्तेमाल करना होगा। 
आप अपने आर्टिकल में keywords का जितना बेहतर तरीके से इस्तेमाल करेंगे उतना quality of content बेहतर होगा। जिससे ranking के chances बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं। 
Keyword research करने के बाद अपने main keyword को आर्टिकल के title, meta description और कंटेंट के first & last paragraph में जरूर insert करें। 
बहुत से नए ब्लॉगर कीवर्ड रिसर्च को पूरी तरह से नजरअंदाज करते हैं, और इसको जरूरी नहीं समझते जो कि उनकी सबसे बड़ी गलती है। आप बिना कीवर्ड के किसी भी आर्टिकल को rank नहीं करा सकते। इसलिए कीवर्ड रिसर्च करना बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है।
कीवर्ड रिसर्च करते समय हमेशा medium और low competition keyword को ही target करें, कभी भी high competition keyword का इस्तेमाल मत करें।
इससे आपके content को rank होने में बहुत ज्यादा आसानी होगी और आपको ज्यादा traffic में मिलेगा। 
तो अगर आप भी quality content लिखना चाहते हैं तो इस बात का आपको खास ध्यान रखना होगा कि आर्टिकल लिखने से पहले proper keyword research जरूर करें। इसे बिल्कुल भी ignore ना करें।

3) SEO Friendly Title 

Search Engine के जरिए यूजर्स आपके वेबसाइट पर title पढ़कर ही enter करते हैं। ऐसे में अगर आप बढ़िया टाइटल नहीं लिखेंगे तो यूजर्स आपके ब्लॉग पर विजिट नहीं करेंगे।
Title बिल्कुल eye catchy होना चाहिए। टाइटल इस तरह से लिखें की देखते ही तुरंत यूजर्स क्लिक कर दें। जितना अच्छा टाइटल होगा उतना ज्यादा क्लिक होने के chances बढ़ जाते हैं। 
Title भी SEO को effect करते हैं, इसलिए हमेशा seo friendly title लिखें। जिससे आर्टिकल सर्च इंजन में top rank कर सकें। 
SEO friendly आर्टिकल लिखने के लिए आपको keywords पर ज्यादा ध्यान देना होगा। कोशिश करें कि टाइटल के शुरू में ही main keywords का इस्तेमाल करें। 
और हमेशा long tail keywords ही यूज करें। Short tail keyword का इस्तेमाल करने से बचें।
टाइटल में power words का इस्तेमाल करें जैसे – top, best, ultimate, quick, extreme, powerful, fast, etc. इसके अलावा नंबर का भी इस्तेमाल करें जैसे – top 10, 11+, 101+ best, etc. 
हमेशा टाइटल इस तरह से लिखें की यूजर देखते ही attract हो जाए और वो click करने में मजबूर हो जाए। title 60-70 characters से ज्यादा मत रखें। 

4) Heading & Subheadings

ब्लॉग के सभी आर्टिकल में title के साथ साथ heading और subheadings पर भी ध्यान देना जरूरी है।
जिस तरह टाइटल seo friendly होना जरूरी है। उसी तरह heading और subheadings का भी seo friendly होना जरूरी है।
अगर आप अपने आर्टिकल्स में हाई quality content देना चाहते हैं तो आपको SEO friendly heading और subheadings लिखना होगा।
आपको बता दें कि 70% readers आर्टिकल में केवल हेडिंग और सब-हेडिंग ही पढ़ते हैं, और सिर्फ 30% readers ही बाकी कंटेंट पढ़ते हैं। 
अगर आप चाहते है कि सभी रीडर्स आपके पूरे कंटेंट को पढ़ें और आपका आर्टिकल टॉप रैंक करें तो आपको seo friendly हेडिंग और सब-हेडिंग लिखना होगा।
html heading and subheadings tag
इसमें भी आपको अपने keywords का इस्तेमाल करना होगा। और कोशिश करें कि headings के शुरू में ही कीवर्ड को रखें। इससे seo better होता है। 
अपने आर्टिकल्स में एक h1 heading के साथ साथ multiple h2 और h3 headings का भी इस्तेमाल करें। इससे आपके कंटेंट को सर्च इंजन में टॉप रैंक होने में मदद मिलती है।

5) Write Content in Depth

हर यूजर यही चाहता हैं कि वो जिस भी आर्टिकल को पढ़ें, तो उसमे उसे full information मिल जाएं। और हमे हमेशा articles खुद को ध्यान में रखकर नहीं, बल्कि users और readers को ध्यान में रखकर लिखना चाहिए। 
अगर यूजर्स आपके आर्टिकल से back होकर दूसरे साइट के आर्टिकल पर जाते हैं तो इसका मतलब है कि आपके कंटेंट में detailed information नहीं हैं। 
इससे सर्च इंजन पर आपके साइट का negative effect होता है, और आपके आर्टिकल्स की रैंकिंग down भी हो सकती है। इसलिए हमेशा in-depth content लिखने की आदत बना लें।
गूगल भी long content और in-depth content को ही पसंद करता हैं। इसलिए आर्टिकल लिखते समय इस बात का खास ध्यान रखें। 
In-Depth Content का मतलब है कि आप जिस भी टॉपिक को लिखें, उससे संबंधित जितनी भी जरूरी information हो, उन सभी के बारे में बताएं। इसके अलावा उस टॉपिक से related जरूरी QnA भी अपने आर्टिकल में शामिल करें।
अपने आर्टिकल की length minimum 2000 words का जरूर रखें। अगर आप लंबे कंटेंट लिखेंगे तो किसी भी टॉपिक को आसानी से in-depth cover कर सकते हैं। 
लंबे आर्टिकल लिखने का मतलब हरगिज़ ये नहीं हैं कि आप फालतू की चीजें बढ़ा चढ़ा कर लिखें। इससे readers परेशान होते हैं और वो आपके साइट में दोबारा visit करना पसंद नहीं करेंगे।
आर्टिकल में अपना experience शेयर करें और सभी information सीधे और आसान शब्दों में बताएं। अपने बातों को बिल्कुल सटीक और to the point रखें।

6) Use Quality Images

हमेशा अपने ब्लॉग आर्टिकल में कम से कम एक quality image का इस्तेमाल जरूर करें। images यूज करने से ट्रैफिक में boost मिलता है। 
जैसा की आप सभी जानते ही होंगे कि एक इमेज हजारों शब्दों के बराबर होता है। इसलिए कम से कम एक इमेज जरूर यूज करें। गूगल भी इमेज को first priority देता है।
अगर आप images का यूज करेंगे तो आपका आर्टिकल गूगल सर्च के साथ साथ गूगल इमेजेस में भी रैंक करेगी। जिससे आपके ब्लॉग का ट्रैफिक increase होगा। 
अपने हर एक आर्टिकल में एक feature image जरूर लगाएं। लेकिन image को fully optimize और compress करके ही इस्तेमाल करें।
Feature image के अलावा कंटेंट से related जरूरी screenshot भी शेयर करें। लेकिन सिर्फ जरूरत पढ़ने पर ही ज्यादा इमेजेस यूज करें, बेफिजूल के इमेजेस मत अपलोड करें।
Images भी हमेशा अपनी खुदकी ही इस्तेमाल करें, कभी किसी दूसरे की इमेज कॉपी मत करें। आप canva से आसानी से फ्री इमेज बना सकते हैं। इसके अलावा फोटोशॉप से भी आप एक प्रोफेशनल इमेज बना सकते हैं।

7) Focus on Reader Not Business

अगर आप एक क्वालिटी कंटेंट बनाना चाहते हैं तो आपको हमेशा कंटेंट अपने यूजर्स या रीडर्स को ध्यान में रखकर ही लिखना होगा। 
आप जब भी आर्टिकल लिखें तो ये सोचे कि आपके यूजर्स और रीडर्स क्या चाहते हैं। उनके हिसाब से कंटेंट लिखें। वह जो चाहते हो, उसपर focus करें। 
गूगल के quality guidelines में ये साफ लिखा हुआ है कि आप हमेशा pages और posts को सर्च इंजन के लिए नहीं बल्कि, यूजर्स को ध्यान में रखते हुए लिखें।
अगर आप आर्टिकल सिर्फ सर्च इंजन में रैंक करने के लिए लिख रहे हैं, तो आप ये बात समझ लीजिए कि इस तरह से आपका आर्टिकल कभी रैंक नहीं करेगा। सर्च इंजन का algorithm इस तरह से काम नहीं करता। 
यूजर्स के पसंद को सर्च इंजन preference देती हैं और उन्हीं कंटेंट को रैंक करती हैं जिन्हें यूजर पसंद करते हैं। इसलिए हमेशा audience के लिए कंटेंट लिखें। सर्च इंजन में वो automatic रैंक हो जाएगी।
सबसे पहले अपने readers के बारे में जाने, उन्हें क्या पसंद हैं? वो क्या चाहते हैं? उनके साथ connection build करें। और अपने हर आर्टिकल में यूजर से feedback देने को जरूर कहें।

8) Do Proper On-Page SEO

हाई क्वालिटी कंटेंट का मतलब होता है की reader कंटेंट को पूरी रुचि के साथ आखिर तक पढ़ें, लेकिन आपका ये हाई क्वालिटी कंटेंट यूजर्स तक पहुंचेगा कैसे? इसके लिए आपको On-Page SEO पर काम करना होगा।
Do Proper On-Page SEO - Write Title, Meta Description, Permalink
जैसा कि मैंने ऊपर बताया कि, एक हाई क्वालिटी कंटेंट वही होता है जो रीडर्स के साथ-साथ सर्च इंजन के लिए भी optimize हो। ताकि आपका कंटेंट सर्च इंजन पर रैंक कर सकें और यूजर्स तक पहुंच सकें। 
आर्टिकल लिखते समय उस पेज पर आप जो भी optimization करते हैं, उसे on page seo कहते हैं। जैसे – title, meta description, keywords, permalink, image alt tag, h1, h2, h3, interlinking, etc.

9) Engage Your Audience

आपको अपने ब्लॉग पर यूजर्स को engage करके रखना होगा। मतलब ये कि जो भी यूजर आपके ब्लॉग पर आए, तो वो ज्यादा समय तक आपके ब्लॉग पर रुके रहें। और interlinking के through अलग अलग आर्टिकल्स को read करते रहें।
अगर readers आपके ब्लॉग पर आए और 10-20 सेकंड में ही चले जाते हैं, तो इसका मतलब है कि आपका content engaging नहीं हैं। इससे bounce rate increase होता है और आर्टिकल की रैंकिंग भी down होती है। 
आपको अपने आर्टिकल को more engaging बनाने के लिए इन सभी स्टेप्स को follow करने होंगे, और अपने आर्टिकल में ऐड करने होंगे। तभी visitors आपके आर्टिकल को पूरा पढ़ेंगे।
  • आर्टिकल के Title को ज्यादा Attractive रखें।
  • आर्टिकल में 1 Heading और Multiple Subheadings का यूज करें।
  • आर्टिकल को छोटे छोटे paragraph में लिखें जिससे यूजर्स को पढ़ने में आसानी हो।
  • आर्टिकल का पहला paragraph सबसे बेस्ट होना चाहिए। 
  • जरूरत पड़ने पर बीच बीच में images यूज कर सकते हैं।
  • जरूरत पड़ने पर quotes भी यूज कर सकते हैं।
  • अपने आर्टिकल में वीडियो का इस्तेमाल भी जरूर करें। 
  • आर्टिकल के लास्ट में QnA सेक्शन भी रख सकते हैं। 

10) Create Original & Unique Content

आप जब भी आर्टिकल लिखे तो उससे पहले उस टॉपिक के बारे में अच्छे से जानकारी हासिल कर लें। और उसके बाद ही आर्टिकल लिखना स्टार्ट करें। 
और कंटेंट बिल्कुल ओरिजिनल और यूनीक रखें। मतलब ये कि कंटेंट खुद से लिखें और कभी किसी दूसरे कि कॉपी बिल्कुल ना करें। 
गूगल और other सर्च इंजन भी ओरिजिनल और यूनीक कंटेंट पसंद करते हैं और उन्हीं को रैंक भी करते हैं। तो अगर आप चाहते हैं कि आपका कंटेंट भी सर्च इंजन में रैंक करें, तो आपको ओरिजिनल और यूनीक कंटेंट लिखना होगा। 
आप सर्च इंजन के जरिए पहले टॉप ranked आर्टिकल्स को पढ़कर उन्हें analyze कर सकते हैं और वहां से आईडिया ले सकते हैं। लेकिन किसी का भी कंटेंट कॉपी करने की कभी मत सोचें। बल्कि उनसे बेहतर लिखने की सोचें। 

11) Use Video

आपको अपने आर्टिकल में वीडियो का भी इस्तेमाल करना होगा। इससे आपका आर्टिकल more engaging बन जाता है। 
वीडियो आप सीधे अपने ब्लॉग पर अपलोड कर सकते हैं या फिर यूट्यूब से embed भी कर सकते हैं। अगर आपका YouTube channel भी हैं, तो ये आपके लिए bonus साबित होगा।
वीडियो बनाने के लिए आपको कोई expensive कैमरा की जरूरत नहीं है, आप अपने smartphone से ही वीडियोस बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। 
और अगर आप वीडियो नहीं बनना चाहते हैं, तो आप YouTube से उस टॉपिक की वीडियो को ऐड कर सकते हैं। और नीचे उस वीडियो की source और short detail भी लिख दें। 
तो आप कोशिश करें की आर्टिकल में एक वीडियो जरूर ऐड करें। इससे आपका आर्टिकल बहुत ज्यादा क्वालिटी प्रोड्यूस करता हैं।

Top 35+ Best SEO Tools in Hindi | Search Engine Optimization Tools 2023

इस आर्टिकल में 35+ Best SEO Tools in Hindi की list दी गई है। सभी SEO tools के बारे में detail में बताया भी गया है। उम्मीद है आर्टिकल पूरा पढने के बाद आप Best SEO Tools के बारे में पूरी तरह जान जायेंगे। 
वास्तव में, ये सभी tools मेरे ब्लॉग की traffic increase करने में बहुत ज्यादा मदद की हैं। और आज के समय में मेरे साइट पर 100k+ visitors हर महीने आते हैं।
Top 35+ Best SEO Tools in Hindi | Search Engine Optimization Tools 2020
ये सभी tools हमारे ब्लॉग या वेबसाइट के SEO को optimize करने में मदद करती हैं। और हमारे ब्लॉग के traffic को increase भी करती हैं।
सबसे ख़ास बात ये है, कि ये सभी Best SEO tools हैं जो 2020 में सबसे ज्यादा और महान कार्य करने वाले tools हैं। सभी tools बहुत ही ज्यादा effective और great work करती हैं।
अगर हम अपने ब्लॉग का अच्छे और प्रॉपर तरीके से SEO करते हैं, तो हम अपने ब्लॉग पर आसानी से organic traffic increase कर सकते हैं। अगर आप Best SEO Tools in Hindi जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पढ़ते रहे।
SEO करते समय हमे SEO की जानकारी होने के साथ साथ SEO Tools की भी पूरी जानकारी होना जरूरी हैं। अगर हम सही और अच्छे tools का इस्तेमाल करते हैं, तो हम अपना काफी समय बचा सकते हैं। तो इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम Top 35+ Best SEO Tools in Hindi के बारे में जानेंगे।

Top 35+ Best SEO Tools in Hindi

1) Google Keyword Planner

नाम से ही आप समझ गए होंगे कि ये गूगल का टूल हैं। Google Keyword Planner, Google Adwords का ही एक हिस्सा है। यहां से आप जितने चाहे उतने Keywords search कर सकते हैं। ये पूरी तरह से free हैं।
बहुत से लोगो को लगता है कि ये paid tool हैं, पर मैं आपको बता दूं कि google keyword planner पूरी तरह से free टूल हैं। इस टूल को use करने के लिए आपको 1 रुपए भी खर्च नहीं करना हैं।
गूगल का प्रोडक्ट होने के कारण इस tool में keyword search करने पर दिखाए गए results के डाटा 100% सही होते हैं। और इसलिए ये Best SEO Tools in Hindi के list का पहला टूल हैं।
best seo tools - google keyword planner
वैसे तो ये टूल google adwords के लिए हैं पर users के लिए भी ये tool बहुत ज्यादा helpful हैं। इसमें आप किसी भी तरह के keywords find कर सकते हैं।
इस टूल से यूजर्स long tail keywords, medium tail keyword, और किसी भी niche के हर keywords को आसानी से find कर सकता है।
यहां से आपको किसी भी keyword की average monthly searches, CPC और Competition मिल जाएगी। हालांकि, ये सभी डाटा adwords के लिए होती हैं। 
पर users इन्हीं डाटा की मदद से keywords find कर सकती हैं क्यूंकि average monthly searches normally सभी के लिए होती हैं।
और google advertisers से जो revenue लेती है उसका 65% users को देती हैं और 45% खुद रखती हैं, तो इस तरह से हम CPC का analysis कर सकते हैं।
इसके अलावा रही बात competition की तो इसमें दिखाई गई competition advertisers के लिए होती हैं। तो इसमें दिखाई गई competition पर ध्यान बिल्कुल मत दीजिएगा।
Google Keyword Planner यूज करने के लिए आपको सबसे पहले Google Ads में साइन-अप करना होगा। इसके लिए आपको नया अकाउंट बनाने की जरूरत नहीं है, आप अपने गूगल जीमेल अकाउंट से सीधे sign-up कर सकते हैं।

2) Google Search Console

नाम से आप समझ गए होंगे कि यह भी गूगल का ही टूल हैं। गूगल ने इस टूल को अपने सभी यूजर्स के लिए पूरी तरह से फ्री उपलब्ध कराया है। 
गूगल सर्च कंसोल, गूगल का वेबमास्टर टूल है। पहले इसका नाम गूगल वेबमास्टर टूल था पर अब इसे गूगल सर्च कंसोल के नाम से जाना जाता है। 
Google Search Console tool की मदद से आप अपने वेबसाइट या ब्लॉग की जानकारी गूगल को बताते हैं। जिसके बाद गूगल आपके ब्लॉग को अपने सर्च इंजन में रैंक करता है।
अगर आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में सबमिट नहीं करते हैं तो गूगल को आपके ब्लॉग के बारे में पता नहीं चलेगा। जिस कारण गूगल आपके ब्लॉग के किसी भी आर्टिकल को रैंक नहीं कर पाएगा।
इसलिए सभी ब्लॉगर्स के लिए अपने ब्लॉग या वेबसाइट को गूगल सर्च कंसोल में सबमिट करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है।
best seo tools - google search console
आप अपने ब्लॉग की sitemap यहां पर सबमिट कर सकते हैं। यह tool हमारे ब्लॉग और ब्लॉग के सभी आर्टिकल्स को गूगल सर्च इंजन में रैंक कराने में मदद करती हैं। Google Search Console में Sitemap Submit कैसे करें?
गूगल सर्च कंसोल का काम सिर्फ ब्लॉग को सर्च इंजन में रैंक करना ही नहीं हैं, बल्कि ये ब्लॉग में होने वाली SEO related errors को भी बताता हैं। 
आप इस टूल की मदद से अपने ब्लॉग का performance भी analysis कर सकते हैं। पिछले 7 दिन, 28 दिन या 3 महीने में कितने clicks मिलें, कितने impressions दिखें, आदि चेक कर सकते हैं।
जिस प्रकार गूगल सर्च इंजन पर रैंक करने के लिए ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल पर सबमिट करना जरूरी है, ठीक उसी प्रकार अपने ब्लॉग को दूसरे सभी सर्च इंजन जैसे – Yahoo, Bing, Yandex, etc. पर रैंक करने के लिए उनके वेबमास्टर टूल्स पर सबमिट करना जरूरी है।

3) Google PageSpeed Insights

Google PageSpeed Insights बहुत ही ज्यादा useful tool हैं। नाम से आप समझ गए होंगे कि ये भी गूगल का ही tool हैं, जो की पूरी तरह से free of cost हैं।
इस टूल का इस्तेमाल साइट की loading speed check करने के लिए किया जाता है। साइट की लोडिंग स्पीड बहुत ज्यादा फास्ट होनी चाहिए। 
अगर आपके ब्लॉग या वेबसाइट की loading speed बहुत slow हैं, तो लोग आपके साइट पर आना पसंद नहीं करेंगे। क्योंकि विजिटर्स slow loading sites पर जाना बिल्कुल पसंद नहीं करते हैं।
और इससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग भी खराब होती है। गूगल ऐसे sites को जिन्हे load होने में बहुत समय लगता है उन्हें index नहीं करती हैं।
best seo tools - google pagespeed insight
इस tool के help से आप अपने ब्लॉग की loading speed check कर सकते हैं। अगर loading speed बहुत slow है, तो उन्हें fix करने के सुझाव भी यहां दिए होते हैं।
अगर आपकी ब्लॉग load होने में काफी समय ले रही है तो गूगल आपके ब्लॉग के किसी भी आर्टिकल को rank नहीं करेगी। इसके लिए आप ब्लॉग की लोडिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं? इस आर्टिकल को पढ़ सकते हैं।
अगर आपके ब्लॉग की loading speed slow हैं तो search engine आपके ब्लॉग को ignore कर देगी और किसी भी आर्टिकल या पेज को रैंक नहीं करेगी।
ऐसे में आप Google PageSpeed Insights Tool का इस्तेमाल करके अपने ब्लॉग की लोडिंग स्पीड आसानी से बढ़ा सकते हैं। यह टूल किसी भी ब्लॉग की स्पीड में सुधार के लिए सुझाव देती है।

4) Google Analytics

यह भी गूगल का ही टूल हैं जिसे गूगल ने सभी यूजर्स के लिए बिल्कुल free उपलब्ध किया हैं। यह बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण और पॉपुलर SEO tool हैं।
Google Analytics वह प्लेटफॉर्म हैं जो वेबसाइट का डाटा कलेक्ट करता हैं और उसे useful reports में बदल कर यूजर्स को देता हैं।
Google Analytics हर ब्लॉगर्स के लिए बहुत ही ज्यादा important tool हैं। इसलिए इस टूल का इस्तेमाल सभी को करना चाहिए। 
यहां से आप अपने ब्लॉग के visitors, उनकी location, device types, screen size, popular articles, impressions, bounce rate, etc. की report प्राप्त कर full analysis कर सकते हैं। 
best seo tools - google analytics
गूगल एनालिटिक्स, website traffic and behavior analyser tool हैं। इस टूल की मदद से आप अपने ब्लॉग पर आने वाले ट्रैफिक का बहुत सारा डाटा, रिपोर्ट के रूप में आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।
जैसे – आपके साइट पर सबसे ज्यादा ट्रैफिक किस समय आती हैं, कौन कौन से country, device और platform से ज्यादा ट्रैफिक आ रही हैं, कौन-कौन से keyword से ज्यादा ट्रैफिक आ रही है।
इसके अलावा आपके साइट का bounce rate क्या हैं, आपके साइट कि real time traffic क्या हैं, इत्यादि बहुत से रिपोर्ट analysis कर सकते हैं।
मैं पहले गूगल के सभी tools इसलिए बता रहा हूं क्योंकि गूगल दुनिया का सबसे ज्यादा trusted और popular कंपनी है। और गूगल की security टॉप क्लास की होती है। और गूगल सभी टूल्स अपने यूजर्स के लिए फ्री में उपलब्ध कराता है।
ऐसे में गूगल के टूल्स इस्तेमाल करने में काफी ज्यादा फायदा हो सकता है। और इसलिए ये tool भी हमारे site के लिए बहुत ही ज्यादा important tool हैं। जिसकी help से हम अपने ब्लॉग में आने वाले ट्रैफिक को analysis कर सकते हैं। 

5) Google Trends

“Trending Topic” find करने के लिए ये tool बहुत ही ज्यादा popular और best हैं। नाम से आप समझ ही गए होंगे कि यह भी गूगल का ही टूल है।
Google Trends भी पूरी तरह से फ्री हैं। इस टूल की मदद से आप अपने ब्लॉग में आर्टिकल लिखने के लिए trending topics ढूंढ सकते हैं। 
ब्लॉग तो हर कोई आसानी से बना लेता है पर regular base में articles पब्लिश करते रेहना बहुत बड़ी बात होती हैं। ऐसे में बहुत से ब्लॉगर 3 से 6 महीने में ही blogging छोड़ देते हैं।
google trends
क्योंकि आर्टिकल लिखने के लिए daily नए नए टॉपिक धुंडना आसान काम नहीं हैं, और इसलिए बहुत से ब्लॉगर ये कदम उठाते हैं। ब्लॉग में SEO Friendly Article कैसे लिखें?
लेकिन google trends की हेल्प से आप easily trending topic find कर सकते हैं। आप अपने niche से related टॉपिक ढूंढ सकते हैं।
यहां से आप अपने niche से related trending topics को region wise, country, location, language और period wise या year wise भी find कर सकते हैं।

6) Google My Business

यह tool भी गूगल के द्वारा develop किया गया हैं जो कि पूरी तरह से फ्री हैं। इसे google local listing या google business listing के नाम से भी जाना जाता है।
इस tool के मदद से आप अपने business या service को ऑनलाइन promote कर सकते हैं। अपने ब्लॉग और उसकी पूरी जानकारी इसमें list करवा सकते हैं।
अगर आप एक बिजनेसमैन या ब्लॉगर हैं तो अपने product, services, etc. के बारे में ऑनलाइन customer को जानकारी दे सकते हैं। 
इसमें आप अपने बिजनेस या सर्विसेज से related images, videos, infographics, etc. भी upload कर सकते हैं। 
अगर आप एक ब्लॉगर हैं तो आपको google my business में जरूर अपने ब्लॉग को list करना चाहिए। इससे विजिटर्स का आप पर trust build होता है।
क्योंकि इसमें आप अपने और अपने ब्लॉग के बारे में हर जानकारी साझा करते हैं जैसे – address, timing, images, website url, social media links, review ratings, mobile no., etc. 
इस tool की मदद से आप ऑनलाइन अपने बिजनेस को manage कर सकते हैं और सीधे कस्टमर्स के साथ interact कर सकते हैं। यहां से आप अपने ब्लॉग के traffic को increase कर सकते हैं।

7) Google Structure Data Testing Tool

यह tool भी पूरी तरह से फ्री हैं और नाम से आप जान गए होंगे कि ये भी गूगल का ही टूल हैं। इसे short में SDTT भी कहा जाता है।
गूगल ने इस टूल को अपने यूजर्स के लिए वेबसाइट या ब्लॉग को validate करने के लिए बनाई है। इस टूल के मदद से हम अपने वेबसाइट या ब्लॉग के डाटा की टेस्टिंग कर सकते हैं। 
इसके जरिए हम अपने ब्लॉग के structured data को test कर सकते हैं। जिससे कि हमें यह पता चल सके की हमारी वेबसाइट या ब्लॉग में किसी प्रकार की कोई error आ रही है या नहीं। Structured Data Testing Tool में आने वाली Errors को कैसे Fix करें?
अगर ब्लॉग में किसी प्रकार की कोई error आ रही होगी तो site के SEO पर बुरा प्रभाव पड़ेगा, और इससे साइट की रैंकिंग भी down हो सकती हैं।
इसलिए हमे समय समय पर structured data testing tool के जरिए अपने ब्लॉग की testing करते रहना चाहिए। जिससे की हमे पता चल सके की हमारे ब्लॉग पर कोई error तो नहीं आ रही।

8) Google Auto Suggest

यह अलग से कोई tool नहीं हैं, बल्कि गूगल सर्च में inbuilt एक tool हैं। इस टूल के हेल्प से आप बहुत सारे long tail keywords प्राप्त कर सकते हैं। 
आपने कई बार ध्यान दिया होगा कि गूगल में कोई keyword सर्च करने पर, नीचे उस कीवर्ड से संबंधित कई सारे LSI Keywords आ जाते हैं।
अगर हम गूगल में कोई कीवर्ड टाइप करते हैं, तो related keywords हमे गूगल automatic दिखा देता है। इस तरह से ये टूल सभी ब्लॉगर्स के लिए important हैं।

9) Google Mobile Friendly Test

इस टूल की मदद से हम यह चेक कर सकते है कि हमारा ब्लॉग मोबाइल फ्रेंडली हैं या नहीं। गूगल द्वारा यह टूल websites का mobile friendly test करने के लिए बनाया गया है।
किसी भी साइट का mobile friendly होना बहुत ज्यादा जरूरी है। अगर आपकी साइट मोबाइल फ्रेंडली नहीं हैं तो गूगल आपके ब्लॉग को index नहीं करेगी।
इससे वेबसाइट की SEO खराब होती है और रैंकिंग down हो जाती हैं जिससे visitors कम होने लग जाते हैं। इसलिए site का mobile friendly होना जरूरी है।
अगर आपकी साइट mobile devices के लिए optimized नहीं हैं तो गूगल आपके साइट को index नहीं करेगी और आपको बेहतर ranking नहीं मिल पाएगी।
आपकी वेबसाइट या ब्लॉग mobile friendly हैं या नहीं यह पता करने के लिए आप Google के Mobile-Friendly Testing Tool के इस्तेमाल कर सकते हैं।
 Read More 

10) Ubersuggest

Ubersuggest एक फ्री और बहुत ही अच्छा Keyword Research tool हैं जिसे Neil Patel Ji द्वारा develop किया गया है। 
इसमें keyword research करना बहुत आसान है, यहां से आप country target करके भी कीवर्ड सर्च कर सकते हैं।
इसमें आपको केवल अपना कीवर्ड टाइप करना हैं और ये आपको cpc, search volume, keyword difficulty, etc. के बारे में एक बेहतर overview प्रदान करता है। 
ubersuggest
यह टूल पूरी तरह से तो फ्री नहीं हैं पर इसमें काफी ज्यादा features free में दिए गए हैं। आपको इसका paid version खरीदने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। 
इस टूल में SERP Analysis Feature भी दिया गया है जिसकी मदद से आप अपने पुराने आर्टिकल्स के keywords की help से उनकी position भी चेक कर सकते हैं।
Ubersuggest के help से आप किसी भी site की domain authority, top ranked pages, traffic overview, backlink checker, etc. का analysis कर सकते हैं।
इसके अलावा किसी भी keyword की CPC, search volume, competition, trends, keyword difficulty, etc. भी आसानी से पता कर सकते हैं।

11) Alexa Site Info

Alexa का नाम तो आप जरूर सुने होंगे, यह बहुत ही ज्यादा पॉपुलर और महत्वपूर्ण टूल हैं। Amazon द्वारा इस tool को बनाया गया है। ये टूल फ्री हैं पर पूरी तरह से फ्री नहीं हैं।
Alexa Site Info पर किसी भी साइट की Rank पता किया जा सकता हैं। किसी भी साइट की global rank और national rank यहां से पता किया जाता हैं। 
इसके अलावा इसमें आप यह भी देख सकते हैं कि कौन-कौन से keyword rank हैं, कौन-कौन से sites linked हैं, bounce rate क्या हैं, competitors कौन-कौन हैं, इत्यादि।
alexa site info
यह सभी features Alexa Site Info के free version में हैं, इसके फ्री वजन में काफी फीचर्स दिए गए हैं, इसलिए paid version खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती है।
मैं आपको यही recommend करूंगा कि आप Alexa Site Info को फ्री में इस्तेमाल करें। क्योंकि फ्री में यह आपको वो सभी जानकारी दे देता है, जितनी आपको जरूरत है।
लेकिन अगर आप advanced features use करना चाहते हैं तो आपको paid version buy करना होगा। यह टूल बहुत ज्यादा useful हैं इसलिए इसका इस्तेमाल सभी को करना चाहिए।

12) Keyword Everywhere

यह एक Add-On Extension टूल हैं जो google chrome और Mozilla Firefox Browser के लिए उपलब्ध हैं। यह टूल पहले पूरी तरह फ्री थी, पर अब इसके advanced features को paid कर दिया है।
Keyword Everywhere एक बहुत ही अच्छा और बेस्ट keyword research tool हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए आपको अपने chrome या Firefox browser में इसका extension add करना होगा।
यह टूल मेरा भी पसंदीदा keyword research tools में से एक हैं। इसमें आप किसी भी कीवर्ड का cpc, search volume, competition, etc. देख सकते हैं।
keyword everywhere
इसके लिए आपको कहीं जाने कि जरूरत नहीं है, आप गूगल सर्च इंजन पर कीवर्ड सर्च करें, और यही पर आपके कीवर्ड से related सभी डाटा इस टूल की मदद से आपको मिल जाएगी।
Keyword Everywhere यूज करने के लिए आपको अपने ब्राउज़र में इसका Extension add करना होगा। और उसके बाद इसमें अपना ईमेल दर्ज करें, जिसके बाद ईमेल में आपको एक Key मिलेगा।
उस key को verify करना होगा। Key verify करने के बाद आप इस tool को आसानी से यूज कर सकते हैं। इसे आप फ्री में इस्तेमाल करें, इसका paid version खरीदने की आवश्यता नहीं हैं।

13) WooRank

WooRank एक बहुत ही बेहतरीन SEO tool हैं। यह tool किसी भी साइट के लिए full & dept SEO report provide कराता है। ये भी एक फ्री टूल हैं।
अपने वेबसाइट या ब्लॉग की SEO रिपोर्ट देखने के लिए ये टूल सबसे बेस्ट हैं, क्यूंकि ये फ्री में आपको सभी reports प्रदान करता है। 
woorank
ब्लॉग की SEO बेहतर करने के लिए आप इस टूल का हेल्प ले सकते हैं। यहीं से आप यह देख सकते हैं कि आपके ब्लॉग में कौन कौन से SEO errors आ रही हैं।
और यह टूल आपके ब्लॉग में होने वाली SEO errors को fix करने के लिए tips भी प्रदान करती है। सर्च इंजन में high rank करने के लिए यह टूल आपकी साइट के लिए Best SEO Tips देता है। 

14) Answer The Public

Answer the public भी एक बहुत ही अच्छा seo tool हैं। यह एक keyword research tool हैं। इसमें आपको बहुत सारे LSI Keywords मिल जाते हैं।
इस tool को यूज करना बहुत आसान है आपको सिर्फ अपना कीबोर्ड सर्च करना है और यह आपके कीवर्ड रिसर्च के लिए बहुत सारे LSI keywords, questions और comparison के form में प्रदान करता है।
Answer The Public Tool आपके keywords से related बहुत सारे long tail keywords provide करता है और एक best overview भी देता है।
यह टूल फ्री तो हैं पर advanced features को use करने के लिए आपको इसका premium version buy करना होगा। लेकिन इसके free version में ही इतना कुछ है को आपको premium buy करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

15) SEO Quake

SEO Quake एक Add-On Extension tool हैं। इसे यूज करने के लिए आपको अपने chrome browser में इसका extension add और install करना होगा।
यह एक बहुत ही बढ़िया tool हैं, इसमें आप किसी भी site की ranking, position, age,internal & external linking etc. देख सकते हैं। 
यह टूल पूरी तरह से फ्री हैं। इसमें आप किसी भी कीवर्ड की keyword difficulty भी पता कर सकते हैं। इसके अलावा किसी भी साइट की page info check कर सकते हैं।
SEO Quake में आप किसी भी पेज की On-Page SEO Audit कर सकते हैं, keyword density report चेक कर सकते हैं, इस तरह की और भी बहुत सारी seo reports आपको मिल जाएगी।
 Read More 

16) Broken Link Checker

यह tool भी बहुत ज्यादा उपयोगी हैं। इस टूल की मदद से आप किसी भी साइट की broken links चेक कर सकते हैं और उन्हें fix कर सकते हैं।
किसी भी साइट में broken links नहीं होनी चाहिए या कम होनी चाहिए। इसलिए हमे समय समय पर अपने sites की broken links चेक करते रहना चाहिए। जो आप इस tool की help से कर सकते हैं।
broken link checker
Broken Link क्या हैं? इसपर मैंने already एक article लिखा हुआ है, आप उस आर्टिकल को पढ़ सकते हैं। जब site का कोई पेज ओपन नहीं होता है या 404 error आता है, तो उस पेज के url को broken link कहते हैं।
Broken Link से ब्लॉग के SEO पर बहुत ज्यादा bad effect पढ़ता है। अगर ब्लॉग में broken links ज्यादा होंगे तो सर्च इंजन ब्लॉग को ignore करेगा और इससे हमारी साइट रैंक नहीं हो पाएगी।
इस tool में हम अपने ब्लॉग के सभी broken links पता कर सकते हैं। यह टूल broken links के source page भी show करता है। जिससे broken links को delete करना और भी ज्यादा easy हो जाता है।

17) KeywordTool.io

यह एक keyword research टूल हैं। यहाँ से आप अपने ब्लॉग के लिए Keywords find कर सकते हैं। कीवर्ड सर्च करने के लिए यह बहुत ही बढ़िया टूल हैं। 
यह KeywordTool free और paid दोनों में available हैं। फ्री वर्शन में कुछ limited results दिखाता हैं, जबकि प्रीमियम वर्शन में unlimited results आपको मिलेंगे। 
best seo tools - keyword tool
लेकिन जितना आपको काम हैं उतना आपको free version में ही मिल जायेगा। इसलिए paid के बारे में आपको सोचने की जरूरत ही नहीं हैं।
इसमें अलग अलग platforms के लिए keywords find करने का विकल्प दिया गया हैं। यहाँ से आप Google, YouTube, Bing, Amazon, eBay, Play Store, Instagram, Twitter के लिए keywords find कर सकते हैं।
इस टूल में आप country और language बसे भी keywords आसानी से find कर सकते हैं। यहाँ से आप किसी भी कीवर्ड की CPC, Competition, Search Volume, Etc. देख सकते हैं।

18) KW Finder

KW Finder भी एक बहुत ही अच्छा Keyword Research Tool हैं। यहाँ से आप किसी भी topic या niche के कीवर्ड find कर सकते हैं। यह टूल आपको बेस्ट कीवर्ड find करने में help करती हैं।
KW Finder का Interface बहुत ही ज्यादा User Friendly हैं। और यह Perfect Keyword Ideas भी दिखाता हैं। यहाँ से आप Long Tail Keywords बहुत ज्यादा प्राप्त कर सकते हैं। 
Long Tail Keywords find करने के लिए यह बेस्ट टूल हैं। अगर आप इसमें long tail keywords find करते हैं तो आपको बहुत अच्छे results मिलेंगे।
इसके अलावा यह टूल आपको किसी भी कीवर्ड की CPC, Search Volume, Competition, Etc. बताता हैं। साथ ही यह से किसी भी site की Backlinks, SERP result, Site Info Analysis, Etc. भी चेक कर सकते हैं।

19) Small SEO Tools

Small SEO Tools एक बहुत ही पॉपुलर और बढ़िया टूल हैं। यह काफी बड़ा टूल हैं, और बहुत powerful tool हैं। इसके अंदर आपको कई different types के tools मिल जाएंगी।
यह टूल पूरी तरह से फ्री हैं। इसमें आप किसी भी साइट की full seo analysis देख सकते हैं। इसके अलावा इसमें बहुत सारी tools available हैं। 
small seo tool
इसमें SEO के साथ साथ Non SEO tools भी available हैं। इसके कुछ popular tools की लिस्ट नीचे दी गई है। 
  • Plagiarism Checker
  • SEO Checker
  • Domain Authority Checker
  • Keywords Tools
  • Backlink Tools
  • Website Management Tools
  • Website Tracking Tools
  • Meta Tags Tools
  • Domains Tools
  • Image Editing Tools, Etc.

20) SEMrush

SEMrush एक बहुत ही ज्यादा popular और premium SEO tool हैं। इस टूल को उसे करने के लिए सबसे पहले इसमें रजिस्ट्रेशन करना होता है। 
Registration करने के बाद 14 दिन का Trail Period मिलता है जिसमें आप इसे free में use कर सकते हैं। उसके बाद आपको इसका premium version buy करना होगा।
अगर आप buy नहीं करना चाहते, तब भी 14 दिन बाद आप इसे यूज कर सकते हैं। लेकिन कुछ limited features ही use कर पाएंगे और उसमे भी limited results के साथ। 
semrush
इसमें आप किसी भी site की full and dept seo analysis कर सकते हैं। अपने competitor पर नजर रख सकते हैं। उनके keywords और backlinks भी आसानी से पता कर सकते हैं। 
इस टूल में आप किसी भी साइट की keywords, backlinks, top ranked pages, top ranking keywords, bounce rate, site rank, domain authority, etc. देख सकते हैं।
अगर आप इसे फ्री में यूज कर रहे हैं तो आप 1 दिन में केवल 10 results ही देख सकते हैं। उसके बाद के results देखने के लिए आपको इसका premium version buy करना होगा।
 Read More 

21) Ahrefs

Ahrefs सबसे ज्यादा पॉपुलर और best premium SEO tool हैं। ज्यादातर popular और successful bloggers Ahrefs SEO Tool का ही इस्तेमाल करते हैं। 
यह tool पूरी तरह से paid हैं। इसे उस करने के लिए सबसे पहले इसमें account create करना होता है। और उसके बाद आप इसे buy करके यूज कर सकते हैं।
इसमें आपको किसी तरह की कोई free trail नहीं मिलती है। ये एक premium और one of the best seo tool हैं। 
इस टूल में आप किसी भी site की dept seo analysis कर सकते है। किसी भी साइट कि seo से related हर एक factor आप इस tool की help से check कर सकते हैं।
यहां से आप अपने competitor को ढूंढ सकते हैं और उसपर आसानी से नजर भी रख सकते हैं। 
Ahrefs में आप किसी भी site की backlinks, organic keywords, organic traffic, referring domain, alexa ranking, domain authority, etc. देख सकते हैं। 

22) Ahrefs Keywords Explorer

जैसा कि मैंने ऊपर बताया कि Ahrefs एक बहुत बड़ा SEO Tools हैं, इसके अंदर SEO related अलग अलग कई tools available हैं। 
इसमें Keywords Explorer Tool अलग से दिया गया है, जिसमें आप किसी भी कीवर्ड की deep details हासिल कर सकते हैं। 
यहां से आप किसी भी keyword के बहुत सारे LSI Keyword find कर सकते हैं।  इसे यूज करना बहुत आसान है। इसका user interface बहुत ही ज्यादा user friendly हैं। 
Ahrefs Keyword Explorer में आप किसी भी keyword के बारे में full & dept data प्राप्त कर सकते हैं। इसमें आप keyword difficulty, search volume, global volume, cpc, clicks, related keywords, etc. देख सकते हैं।

23) Ahrefs Backlink Checker

यह भी Ahrefs का ही टूल हैं जो Ahrefs में अलग से दिया गया है। आपको बता दे कि ये सभी Ahrefs tools आपको अलग अलग नहीं buy करना पड़ेगा। 
Ahrefs के एक premium account से आप सभी tools easily use कर सकते हैं। लेकिन आपको ये भी पता होना चाहिए कि Backlink Checker को आप Free में यूज कर सकते हैं। 
ahrefs backlink checker
हालांकि, फ्री में यूज करने पर आपको कुछ limited results ही देखने को मिलेगी, पर आप इसके Backlink Checker Tool को फ्री में उस कर सकते हैं।
Ahrefs backlink checker tool बहुत ही powerful हैं। इसमें आप backlinks के साथ साथ domain rating और referring domain भी देख सकते हैं। 

ब्लॉगर पोस्ट में Automatic TOC कैसे लगाएं – How to Automatically Create Table of Contents in Blogger Posts

Automatically Create Table of Contents in Blogger Post in Hindi – आज हम इस आर्टिकल में टेबल ऑफ कंटेंट अपने ब्लॉग की पोस्ट में कैसे लगाते हैं यह सीखेंगे।  अगर आप

Custom Robots.txt File Kya Hai? Blog Me Implement Kaise Kare

हेलो दोस्तो, Robots.txt File क्या हैं? इसे ब्लॉग में कैसे ऐड करें? यह कैसे काम करता है? इसका ब्लॉग में लगाना क्यों जरूरी है? इसके फायदे क्या है? Robots.txt file

Off Page SEO क्या हैं? Blog Post का Off-Page SEO कैसे करें? – TechHindiGyan

हेलो दोस्तों, What is Off Page SEO? Off-Page SEO क्या हैं? Off Page SEO से ब्लॉग कि ट्रैफिक कैसे increase करते हैं? Off Page SEO technique का यूज़ कैसे करते हैं?

SEO क्या हैं? SEO कैसे करें? Search Engine Optimization की पूरी जानकारी – TechHindiGyan

हेलो दोस्तों, What is SEO? SEO क्या होता है? SEO क्या हैं? Search Engine Optimization कि पूरी जानकारी हिन्दी में, SEO full guide in hindi. अगर आप एक ब्लॉगर हैं तो